केदारनाथ मन्दिरको दर्शन गर्नाले मात्रै पनि भाग्य चम्किन्छ!दर्शन गरी सेयर गर्नुहोस

केदारनाथ मन्दिरको दर्शन गर्नाले मात्रै पनि भाग्य चम्किन्छ!दर्शन गरी सेयर गर्नुहोस

एजेन्सी । केदारनाथ मन्दिर भारत के उत्तराखण्ड राज्य के रूद्रप्रयाग जिले में स्थित है। उत्तराखण्ड में हिमालय पर्वत की गोद में केदारनाथ मन्दिर बारह ज्योतिर्लिंग में सम्मिलित होने के साथ चार धाम और पंच केदार में से भी एक है। यहाँ की प्रतिकूल जलवायु के कारण यह मन्दिर अप्रैल से नवंबर माह के मध्‍य ही दर्शन के लिए खुलता है। पत्‍थरों से बने कत्यूरी शैली से बने इस मन्दिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण पाण्डव वंश के जनमेजय ने कराया था। यहाँ स्थित स्वयम्भू शिवलिंग अति प्राचीन है। आदि शंकराचार्य ने इस मन्दिर का जीर्णोद्धार करवाया।केदारनाथ की बड़ी महिमा है। उत्तराखण्ड में बद्रीनाथ और केदारनाथ-ये दो प्रधान तीर्थ हैं, दोनो के दर्शनों का बड़ा ही माहात्म्य है। केदारनाथ के संबंध में लिखा है कि जो व्यक्ति केदारनाथ के दर्शन किये बिना बद्रीनाथ की यात्रा करता है, उसकी यात्रा निष्फल जाती है और केदारनापथ सहित नर-नारायण-मूर्ति के दर्शन का फल समस्त पापों के नाश पूर्वक जीवन मुक्ति की प्राप्ति बतलाया गया है।इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना का इतिहास संक्षेप में यह है कि हिमालय के केदार श्रृंग पर भगवान विष्णु के अवतार महातपस्वी नर और नारायण ऋषि तपस्या करते थे।उनकी आराधना से प्रसन्न होकर भगवान शंकर प्रकट हुए और उनके प्रार्थनानुसार ज्योतिर्लिंग के रूप में सदा वास करने का वर प्रदान किया। यह स्थल केदारनाथ पर्वतराज हिमालय के केदार नामक श्रृंग पर अवस्थित हैं।केदारनाथ मंदिर के कपाट मेष संक्रांति से पंद्रह दिन पूर्व खुलते हैं और अगहन संक्रांति के निकट बलराज की रात्रि चारों पहर की पूजा और भइया दूज के दिन, प्रातः चार बजे, श्री केदार को घृत कमल व वस्त्रादि की समाधि के साथ ही, कपाट बंद हो जाते हैं। मंदिर मंदाकिनी के घाट पर बना हुआ हैं भीतर घारे अन्धकार रहता है और दीपक के सहारे ही शंकर जी के दर्शन होते हैं। शिवलिंग स्वयंभू है। सम्मुख की ओर यात्री जल-पुष्पादि चढ़ाते हैं और दूसरी ओर भगवान को घृत अर्पित कर बाँह भरकर मिलते हैं, मूर्ति चार हाथ लम्बी और डेढ़ हाथ मोटी है।

काठमाडाैं । दार्चुलामा एउटै डोरीमा महिला र पुरुष झुन्डिएको अवस्थामा मृत फेला परेका छन् । महाकाली नगरपालिका–४ जिल्ला सदरमुकाम खलंगाको एक होटेलमा विवाहित महिला/पुरुष एउटै डोरीमा झुन्डिएको अवस्थामा मृत फेला परेको प्रहरी नायब उपरीक्षक दीपेन्द्र शाहीले बताए ।शैल्यशिखर नगरपालिका–५ आगरका अन्दाजी ३० वर्षीय महादेवसिंह डाँगा र मालिकार्जुन गाउँपालिका–४ औतालेकका मनिषा डाँगा एउटै डोरीमा झुन्डिएको अवस्थामा फेला परेका हुन् । उनिहरुको आफन्तका अनुसार महादेवका घरमा दुई पत्नी छन् भने मनिषाको जेठ महिनामा मात्रै विवाह भएको थियो । मनिषाको माइती घर भने शैल्यशिखर नगरपालिका–५ आगर नै हो । मृतक दुबै छिमेकी मात्रै नभई नाताले दाजुबहिनीसमेत रहेका आफन्तहरूले बताएका छन् ।शैल्यशिखर–५ आगर माइतीघर भएकी मनिषाको गत जेठ महिनामा मात्रै मालिकार्जुन गाउँपालिका–४ औतालेकमा विवाह भएको थियो । सोमबार साँझतिर सदरमुकाम आइपुगेका नाताले दाजुबहिनी भए पनि होटेल सञ्चालकसँग पति÷पत्नी नाता भनेका थिए । उनिहरुले मंगलबार बिहानै जानुपर्ने जानकारीसमेत गराएका थिए ।

भनिन्छ, कर्मभन्दा ठूलो कुनै धर्म हुँदैन, तर हिन्दु धर्ममा कर्मका साथ–सार्थ धर्मको पनि खास महत्व हुन्छ । त्यस्तै, हिन्दुधर्ममा मांगलिक प्रतीकहरुको आफ्नौ महत्व हुन्छ । यस्ता प्रतिक, वस्तुहरु राख्नाले कुनै पनि काममा अवरोध आउँदैन भन्ने विश्वास गरिन्छ ।ओम : सर्वोपरि मंगल प्रतीक – यो सम्पूर्ण ब्रह्माण्डको प्रतिक हो । अ,उ,म तीन शब्दबाट बनेको ओमको अर्थ हुन्छ उपनिषद् । यसमा ब्रह्मा, विष्णु र महेशको प्रतीक तथा यो भूः लोक, भूवः लोक र स्वर्ग लोकको पनि प्रतिक हो । तामा, पीतल तथा अष्टधातुको ओम घरमा राख्ने गरिन्छस्वास्तिक – स्वास्तिकलाई शक्ति, सौभाग्य, समृद्धि र मंगलको प्रतिक मानिन्छ । यो मंगल प्रतीक गणेशको उपासना, धन, वैभव र ऐश्वर्यकी देवी लक्ष्मीको पूजामा विशेष स्थान छ । यसको चारै दिशाहरुको अधिपति देवताहरु, अग्नि, इन्द्र, वरुण एवम् सोमको पूजा हेतु एवप्ं सप्तऋषिहरुको आशीर्वाद प्राप्त गर्नका लागि प्रयोग गरिन्छ ।कलश कलश सुख र समृद्धिको प्रतीक मानिन्छ । एक कास्य वा तामाको कलशमा पानी भरेर त्यसमा आपको केही पात राखेर त्यसको मुखमा नरिवाल राख्नुपर्छ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *